18 दिसंबर को, भारतीय नौसेना को अपनी सबसे हालिया एसेट तब प्राप्त होगी जब मझगांव डॉक शिपबिल्डर द्वारा निर्मित guided missile stealth destroyer को ब्लू वाटर नेवी में शामिल किया जाएगा और पश्चिमी नौसेना कमान को सौंपा जाएगा।

मझगांव डॉक शिपबिल्डर्स लिमिटेड (एमडीएल) ने पिछले महीने भारतीय नौसेना को प्रोजेक्ट 15बी क्लास गाइडेड मिसाइल डिस्ट्रॉयर यानी यार्ड 12705 (मोरमुगाओ) की दूसरी शिप सौंपी थी। जहाज का निर्माण स्वदेशी स्टील DMR 249A का उपयोग करके किया गया है और यह 164 मीटर की कुल लंबाई और 7500 टन से अधिक के displacement के साथ भारत में निर्मित सबसे बड़े विध्वंसक में से एक है।

जहाज एक शक्तिशाली प्लेटफॉर्म है जो समुद्री युद्ध के पूर्ण स्पेक्ट्रम में फैले विभिन्न प्रकार के कार्यों और मिशनों को पूरा करने में सक्षम है। यह सतह से सतह पर मार करने वाली सुपरसोनिक ‘ब्रह्मोस’ मिसाइलों और ‘बराक-8’ लंबी दूरी की सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइलों से लैस है। समुद्र के नीचे युद्ध क्षमता के लिए डिस्ट्रॉयर स्वदेशी रूप से विकसित एंटी-सबमरीन हथियारों और सेंसर से लैस है, जिसमें प्रमुख रूप से हल माउंटेड सोनार हम्सा एनजी, हैवी वेट टॉरपीडो ट्यूब लॉन्चर और एएसडब्ल्यू रॉकेट लॉन्चर हैं।

Share.

Leave A Reply