चीन को काउंटर करने के लिए (सम्प्रभुता) भारत को तिब्बत के बारे में बात करनी चाहिए – कंवल सिब्बल

Photo: Rajya Sabha TV
0 6

पूर्व विदेश सचिव कंवल सिब्बल ने गुरुवार को कहा कि अगर भारत चीन को एक-चीन नीति या संप्रभुता के दावे के मामले में चुनौती देना चाहता है, तो नई दिल्ली को तिब्बत के संबंध में कुछ कदम उठाने चाहिए। यह देखते हुए कि चीन ने अभी तक अरुणाचल प्रदेश को भारत के हिस्से के रूप में मान्यता नहीं दी है, सिब्बल ने कहा कि चीन के साथ सीमा मुद्दों का मौजूदा सेट 1954 में तिब्बत को चीन के हिस्से के रूप में स्वीकार करने के कारण है।

“अगर हम चीन को उसके संप्रभुता के दावों पर चुनौती देना चाहते हैं, तो हमें तिब्बत के संबंध में कुछ कदम उठाने चाहिए। तिब्बत पर उनके कब्जे के कारण ही हमारे सामने वर्तमान चुनौतियां हैं। हमने 1954 में यह स्वीकार किया कि तिब्बत चीन का हिस्सा है। ऐसी मान्यता थी कि यदि हम तिब्बत को चीन के हवाले कर दें तो वे हिमालय पर नहीं उतरेंगे। यह भी धारणा थी कि चीन तिब्बत का सैन्यीकरण नहीं करेगा, जैसा उसने अभी किया है … इसलिए यदि हम अपने विकल्पों को खोलना शुरू करना चाहते हैं, तो हमें तिब्बत के बारे में बात करना शुरू करना चाहिए,” सिब्बल ने परामर्श संपादक मारूफ रजा के साथ चर्चा में टाइम्स नाउ से कहा।

सिब्बल नई दिल्ली में टाइम्स नाउ समिट 2021 में बोल रहे थे। मध्य एशियाई देशों के साथ नई दिल्ली के जुड़ाव को रेखांकित करते हुए, और यह स्वीकार करते हुए कि नियंत्रित प्रेस और नेतृत्व के कारण चीन का आकलन करना बहुत कठिन है, जो ‘मानक, सूत्र-उन्मुख बयान’ देता है, सिब्बल ने इस बात पर प्रकाश डाला कि आज का टकराव जो लदाख में जारी है 1962 से भिन्न है क्यों की 1962 का टकराव एक पूर्ण युद्ध था।

See also  डीआरडीओ ने लंबी दूरी की 'सुपरसोनिक मिसाइल असिस्टेड रिलीज ऑफ टॉरपीडो' का सफल परीक्षण किया

उन्होंने कहा “चीन उस समय वैश्विक शक्ति नहीं था। लेकिन यह अब वैश्विक शक्ति है और इसके गर्व की भावना काफी बढ़ गई है। यदि आप देखें कि वे दुनिया के सबसे शक्तिशाली देश अमेरिका के साथ क्या कर रहा हैं, तो आप एक पुनरुत्थानवादी, विस्तारवादी चीन से निपटने में समस्या को भली भांति समझ सकते हैं, ”।

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.