भारत-दक्षिण कोरिया रक्षा क्षेत्र में संयुक्त विकास और संयुक्त उत्पादन पर जोर देंगे

भारत-दक्षिण कोरिया रक्षा क्षेत्र में संयुक्त विकास और संयुक्त उत्पादन पर जोर देंगे
0 41

भारत और दक्षिण कोरिया ने शुक्रवार को अपनी रणनीतिक बातचीत के तहत स्वदेशीकरण, संयुक्त विकास और रक्षा क्षेत्र में संयुक्त उत्पादन पर ध्यान केंद्रित किया।

वार्ता में भारत और कोरिया गणराज्य (दक्षिण कोरिया) के बीच रक्षा क्षेत्र में स्वदेशीकरण, संयुक्त विकास और संयुक्त उत्पादन पर जोर दिया गया। महत्वपूर्ण और हाई एन्ड टेक्नोलॉजीज में भागीदारी और सप्लाई चैन के लचीलापन पर भी चर्चा की गई।

दोनों पक्षों ने साइबर सुरक्षा और कम्युनिकेशन टेक्नोलॉजी , समुद्री सुरक्षा और आतंकवाद, उग्रवाद और कट्टरता से खतरों और चुनौतियों में सहयोग के क्षेत्रों की पहचान की। भारत की “एक्ट ईस्ट पॉलिसी” और कोरिया गणराज्य की “न्यू सदर्न पॉलिसी” के बीच तालमेल को मजबूत करने पर सहमति बनी।

भारत की ओर से उप राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार पंकज सरन ने संवाद का नेतृत्व किया। दक्षिण कोरिया के राष्ट्रीय सुरक्षा के दूसरे उप निदेशक किम ह्योंग-ज़िन ने आरओके की ओर से बातचीत का नेतृत्व किया।

अपनी यात्रा के दौरान किम ह्योंग-ज़िन ने राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत के. डोभाल और विदेश राज्य मंत्री डॉ. राजकुमार रंजन सिंह से मुलाकात की।

See also  रक्षा मंत्री ने अरुणाचल में सेला सुरंग का अंतिम सफल विस्फोट किया और हरी झंडी दिखाई
Leave A Reply

Your email address will not be published.